गर्लफ्रेंड की चूत के दाने को रगड़ कर चोदा

Posted on

हॉट देसी गर्लफ्रेंड चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी गर्लफ्रेंड के साथ मौज मस्ती करने शिमला गया. वहां पर मैंने उसकी चूत की गर्मी निकाली ही, साथ में गांड भी मारी.

मेरे लिंग की बात करें तो मेरा लिंग 7″ लम्बा और 3″ मोटा है।
आपको मैं अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बताता हूं.
उसका नाम शुभी है, एकदम गदराया बदन है उसका … और उसके गदराये बदन पर उसकी बड़ी बड़ी 34″ की खरबूजे की तरह की चूचियां बड़ी कमाल लगती हैं.
और जब वो चलती है तो उसकी मोटी गांड एकदम तराजू की तरह ऊपर नीचे होती है.
उसको देख कर तो किसी भी बुड्ढे का पानी निकल जाए … तो हम क्या चीज हैं.

तो आपका समय ना बर्बाद करते हुए मैं सीधा अपनी हॉट देसी गर्लफ्रेंड चुदाई कहानी पर आता हूं.

बात पिछले महीने की है जब मैं शुभी के साथ शिमला घूमने गया था.

वहां हमने एक होटल में रूम बुक किया.

दूसरे दिन जब हम लोग घूम के होटल वापस आ रहे थे तभी रास्ते में एक कुत्ता और एक कुतिया अपना माहौल बनाए हुए थे.
उनको देख कर मेरा लन्ड खड़ा होने लगा.

और यह नजारा शुभी ने देख लिया.
वो धीरे से मेरे लन्ड पर अपना हाथ मार कर बोली- इतनी ही अगर गर्मी है तो कुत्ते को हटा कर तुम मार लो जाके कुतिया की!

मैंने उसकी गांड पर एक थप्पड़ मार कर कहा- कुत्ते की कुतिया उसके पास है और मेरी कुतिया मेरे पास है.
तो वो हंस के बोली- तो चलो फिर!

हम लोग रूम पर आए और आते ही शुभी नहाने के लिए बाथरूम में घुस गई.
जब वो नहा के बाहर आई तो मैं उसे देखता ही रह गया.

उसने अपने शरीर पर सिर्फ तौलिया लपेट रखा था जिससे उसकी गोरी गोरी जांघें मुझे और उत्तेजित कर रही थी.
उसी उत्तेजना में मैं जल्दी से नहा कर आया.

उसके बाद खाना खाकर हम दोनों साथ में पोर्न फिल्म देखने लगे.

मेरे ऊपर तो पहले से उत्तेजना सवार थी, तो मैं धीरे से अपना हाथ ले जाके उसकी जांघ पर रख के सहलाने लगा.
जिससे उसको भी उत्तेजना आने लगी.

फिर मैंने उसके गुलाब जैसे होंठों पर अपने होंठ रख कर उसके होंठों को चूसने लगा.
इसमें वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.
हम दोनों ने करीब 3-4 मिनट एक दूसरे के होंठों को चूमा चाटा, चूसा.

इतनी देर में मैंने उसके शरीर से इस तौलिये को हटा दिया जिससे उसकी नंगी चूचियां मेरे सामने आ गई.
उसकी बड़ी बड़ी गोरी चूचियों को देख कर मुझसे और रहा ना गया और मैं उसकी एक चूची को अपने हाथ में भर कर दबाने लगा.

उसके चूचे इतने बड़े थे कि मेरे हाथ में नहीं आ रहे थे.

फिर मैं उसकी एक चूची को मुंह में भर कर दूसरी चूची के साथ खेलने लगा.
कभी मैं उसकी एक चूची को चूसता … तो कभी दूसरी चूची को!

और धीरे से मैंने उसके निप्पल पर काट लिया … जिससे उसकी आह निकल गई.

वो उत्तेजना में आहें भरने लगी.

मैंने भी मौका देख कर अपना हाथ उस देसी गर्लफ्रेंड की गर्म गर्म चूत रख दिया जिससे वो सकपका गई और हल्के से उछल गई.
जब मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा था तो ऐसा लगा था कि मैंने जैसे कोई अंगारा छू लिया हो!
इतनी गर्म चूत थी उसकी!

अब मैं उसके चूची को छोड़ कर उसकी नाभि से होता हुआ उसकी चूत तक आ पहुंचा.
मैं आपको बयां नहीं कर सकता कि उसकी चूत की वो खुशबू मुझे किस कदर मदहोश कर रही थी।

उसकी चूत को सहलाते हुए मैं उसकी चूत के आस पास चूमने लगा.
इसमें उसे इतना मजा आ रहा था कि वो मुझसे कहने लगी- आर्यन, प्लीज जल्दी से मेरी चूत चाटो.

मुझे भी मजा रहा था तो मैंने उसकी चूत पर एक हल्का सा चुम्बन दे दिया जिससे उसके शरीर में एक करंट से दौड़ गया और वो थोड़ी ऊपर खिसक गई.

मैं उसको अपनी तरफ खींचते हुए उसकी चूत चाटने लगा।
वो भी मदहोश होके बोलने लगी- उम्म आह म्म्ह … हां और तेज चाटो आर्यन … और तेज … कब से भरी पड़ी थी टंकी … आज खाली कर दो इसे!

मैं भी तेजी से उसकी चूत चाटने लगा और अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर डाल कर उसके चूत के दाने के साथ खेलने लगा.
तो कभी मैं अपनी उंगली अंदर डाल कर उसको चोदने लगता।

मैं आपके साथ ये कहानी साझा तो कर रहा लेकिन उसकी चूत और चूत के दाने को चूसने में जो मजा आ रहा था वो मैं आपके साथ चाह कर भी साझा नहीं कर सकता।

करीब 10 मिनट तक ऐसे करने के बाद उसने मेरे मुंह में ही अपना पानी छोड़ दिया.
क्या स्वाद था उसका … मैं बता नहीं सकता आपको!
मैंने उसका सारी पानी पी लिया और जो चूत के अगल बगल में लगा था, उसे भी चाट कर साफ कर दिया।

फिर मैंने उसको सीधा किया और उसकी चूची को दबाते हुए अपना लन्ड उसके मुंह में डाल दिया.

वो भी एक पोर्नस्टार की तरह मेरे लन्ड को चूस रही थी. कभी वो मेरे लन्ड के सुपारे को चूमती, तो कभी पूरा लन्ड अपने मुंह में भर लेती.

मैं भी उसके बालों को पकड़ के उसके मुंह को चोदने लगा.
फिर मैंने उसे कंडोम देकर उसे चढ़ाने को कहा तो उसने बड़े प्यार से मेरे लन्ड को कंडोम पहनाया और अपनी टांगें फ़ैला के लेट गई और कहने लगी- आज फाड़ दे आर्यन … मेरी चूत का भोसड़ा बना दे.

तो मैंने देसी गर्लफ्रेंड की चूत पे थूका और लन्ड को चूत के छेद पर फिट करके अचानक एक झटका मारा.

अचानक लगे इस झटके से उसकी जोरदार चीख निकल गई और वो कराहने लगी- आह आह म्म्ह … ओह!

ये आवाजें मुझे और जोश दे रही थी.
उसी जोश के साथ मैं और तेज तेज झटके मार कर उसे चोदने लगा.
साथ साथ मैं उसके चूचों को मुंह में भर कर चूसने लगा, उसके निप्पल को भी काट रहा था।

फिर मैंने उसको अपनी कुतिया बनाया और मैं खुद कुत्ता बन कर उसे चोदने लगा।
इस बीच शुभी ने एक बार पानी छोड़ा।

जब मुझे लगा कि मेरा पानी भी निकलने वाला है तो मैंने अपना लन्ड निकाल कर उसके मुंह में दे दिया.
और मैं उसके मुंह को फिर से चोदने लगा और उसके मुंह में ही मैंने अपना पानी छोड़ दिया।

उसके बाद हम दोनों किस करते हुए सो गए.

सुबह जब मेरी आंख खुली तो शुभी बिल्कुल नंगी होकर मेरे बगल में बैठी थी.
उसे ऐसे बैठी देख मेरा फिर से मूड बन गया.

अबकी बार मैंने सबसे पहले उसकी चूत चाटी.
फिर उसे कुतिया बनाकर शुभी को बिना बताए उसकी गांड में अपना लन्ड डालने लगा।

मगर उसकी गांड इतनी कसी थी कि एक बार में मेरा लन्ड अन्दर घुसा ही नहीं.
और शुभी चौंक गई, मुझे मना करने लगी कि गांड नहीं.

लेकिन मैं कहां मानने वाला था … मैंने एक और जोरदार झटका मारा जिससे मेरा लन्ड उसकी गांड फाड़ते हुए अन्दर घुस गया.
और शुभी दर्द के कारण चीख पड़ी.

इस बार मैं बिना कंडोम के उसको चोद रहा था और थोड़ी देर बाद मैंने शुभी की गांड में ही पानी छोड़ दिया.
लेकिन शुभी अभी भी दर्द से कराह रही थी।

फिर जब तक हम लोग वहां रुके तब तक मैं रोज शुभी की चूत को चोदता रहा और उसकी गांड भी मारता रहा।

तो यह था मेरा सेक्स अनुभव!
आपको कैसा लगा?
मेरी हॉट देसी गर्लफ्रेंड चुदाई कहानी आपको पसंद आई या नहीं … तो मुझे मेल करके और कमेंट्स में बताइएगा ताकि मैं अपनी शुभी और शुभी की बहन शिखा की कहानी आप लोगों से साझा कर पाऊं।
[email protected]

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *