देवर भाभी की चुदाई बनी हकीकत- 3

पोर्न भाभी चुदाई कहानी नयी दुल्हन भाभी की देवर के साथ चुदाई की है. पति के विदेश जाने पर दुल्हन की चूत की प्यास उसके देवर ने कैसे बुझाई?

कहानी के पिछले भाग
एन आर आई पति के साथ वीडियो सेक्स
में आपने पढ़ा कि 5 दिन की हनीमून चुदाई के बाद पति छोड़ कर विदेश चला गया दुल्हन की चूत को जलती छोड़ कर! दुल्हन ने पूरी नंगी होकर पति के साथ वीडियो सेक्स किया तो देवर ने उसे वासना से तड़पती देख लिया.

अब आगे पोर्न भाभी चुदाई कहानी:

उसे अपने बालों में किसी की उंगलियाँ फिरती महसूस हुई।

वो पलटी तो अन्नू था, जो बड़े स्नेह से उसके सिर को सहला रहा था, मानो दिलासा दे रहा हो।
रूपा उठी और अन्नू से चिपट कर रोने लगी।

अन्नू ने उसे अपने से चिपटा लिया और उसे समझाने लगा।

रूपा ने उसे सॉरी बोला तो अन्नू ने जवाब दिया- भाभी, आपकी बेचैनी मैं समझता हूँ।
बहुत देर बाद अन्नू रूपा को यह समझाने में कामयाब हुआ कि इस तरह रोने से तो दिक्कत बढ़ जाएगी, अब एक महीने वे दोनों बहुत अच्छे दोस्तों कि तरह खूब मस्ती करेंगे ताकि रूपा पर अकेलापन हावी न हो।

असल में आकाश ने भी अभी अन्नू से बात की थीं और उससे कहा था कि वो रूपा का मन बहलाये।
तब अन्नू ने आकाश को समझाया कि ये तो वो कर लेगा पर अगर आकाश ही रूपा को कमजोर करेगा तो बिस्तर पर रूपा को कौन समझाएगा।

आकाश और अन्नू की झिझक खुली हुई थी, तो आकाश ने उससे ये वादा किया कि अब वो रूपा से बात तो रोज करेगा पर उसे उकसाएगा नहीं।

उस पूरे दिन अन्नू और रूपा घर पर ही रहे।
खाना भी बाहर से ऑर्डर करके मँगवा लिया था।

रात को न नींद रूपा को आ रही थी न अन्नू को!
अन्नू बहुत संभाल कर और दूरी बना कर चल रहा था, जिसे रूपा ने टोका भी, पर अन्नू बस मुस्कुरा दिया।

बड़ी बोरिंग रात हो रही थी।
रूपा ने आकाश को फोन भी मिलाया तो आकाश का मेसेज आ गया कि वो पार्टी के साथ है, बात नहीं कर पाएगा।
इस पर रूपा बहुत खिजियाई।

अन्नू ने मूवी लगा ली।
दोनों सुबह 3 बजे तक मूवी देखते रहे फिर रूपा के कहने पर अन्नू भी वहीं बेड पर एक ओर लुढ़क कर सो गया।
रूपा ने बहुत कहा- ठीक से सो जाओ!
पर अन्नू को संकोच था।

अगले दिन आँख जल्दी ही खुल गयी तो सुबह लेक किनारे घूमने चले गए और बाहर ही नाश्ता कर के 11 बजे तक लौट कर आए।

अब दोनों बिल्कुल नॉर्मल और खुश थे.

पेट भरा था तो दिन में रूपा और अन्नू दोनों झक कर सोये और शाम को मूवी चले गए और डिनर लेकर देर रात घर लौटे।

रूपा के पास आकाश का फोन था कि आज रात को किसी फ्रेंड के पास डिनर को जाना है।
आकाश की डिनर पार्टी का मतलब होता है देर रात तक शराब के दौर।
रूपा ने ये महसूस किया कि आकाश उससे दूरी बना रहा है शायद इसलिए कि रूपा उसे ज्यादा मिस न करे।

पर उसे परेशान करने की बात ये थी कि आकाश के फोन के पीछे से किसी लड़की की आवाज आ रही थी जो आकाश से पूछ रही थी कि कहाँ बिजी हो गए।
आकाश ने जल्दी ही फोन काट दिया।
रूपा को मन ही मन उससे नाराजगी हुई।

आज रूपा और अन्नू ने कल से भी ज्यादा जम कर मस्ती की।
दोनों के ही दिमाग से कल की बात निकल चुकी थी।

रात को लगभग 11 बजे करीब ही घर पहुंचे।

चूंकि दिन में सो चुके थे तो अभी नींद का कोई काम नहीं।
अब रूपा अन्नू से खुल कर सिगरेट मांग लेती थी तो अब घर में सिगरेट कि हर समय महक रहती।

रूपा ने अन्नू को मना लिया कि वो आज रात उसके साथ ही सोएगा।
अन्नू बोला- क्या मूड है?
तो रूपा बोली- आज व्हिस्की पिएंगे।

अन्नू नहीं पीता था पर रूपा को मस्ती चढ़ी थी तो मान गया।
ये तय हुआ कि साथ में डांस भी करेंगे।

दोनों ने रात के हल्के कपड़े पहन लिए।
अन्नू ने म्यूजिक चालू किया तो रूपा ने जाम बना लिए।

कमरे की लाइट धीमी करके माहौल बन गया।
दोनों ने चियर्स करके पीनी शुरू की।
स्वाद दोनों को अच्छा नहीं लगा पर मस्ती जो करनी थी।

धीरे धीरे डांस शुरू हुआ।
रूपा पर चढ़नी शुरू हो गयी थी।

उसने अन्नू से चिपटते हुए पूछा- तुम रात को कामे में आए थे क्या?
अन्नू झूठ बोल गया- नहीं तो!

रूपा समझ गयी, फिर कुछ नहीं पूछा.
पर अन्नू की आँखों में झलकते प्यार को वो देख चुकी थी।

जवान जिस्म जब करीब हों और मन में अरमान मचल रहे हों तो क्या नहीं हो सकता।

अन्नू ने रूपा को हल्के से माथे पर किस कर लिया.
जवाब में रूपा ने उसे होंठों पर ही किस किया।

अन्नू बहकना नहीं चाहता था तो उसने रूपा से कहा- अब बस, अब मैं सोने जा रहा हूँ।
रूपा बोली- अच्छा बाबा, गलती हो गयी. अब नहीं छेड़ूँगी, पर आज रात को सोना नहीं है। और फिर हम दोनों तो दोस्त हो गए हैं, इतना तो चलता ही है दोस्तों में!

बात आगे बढ़ती गयी, शराब का सुरूर चढ़ता गया, जिस्म और नजदीक आते गए।

अचानक अन्नू ने रूपा को कस कर भींच लिया और होंठ से होंठ भिड़ा दिये।
रूपा भी अब होश गंवा बैठी और अन्नू का भरपूर साथ देने लगी।
दोनों बेल की तरह लिपट गए।

अन्नू ने रूपा को गोदी में उठाया और बेड पर लिटा दिया।
दोनों के होंठ फिर मिल गए।

अब नशा तो नहीं था पर वासना का खुमार पूरे उफान पर था।
सही गलत की सोच से परे कुछ अनचाहा होने को था।

अन्नू ने रूपा की टी शर्ट उठानी चाहिए तो रूपा ने खुद ही उतार फेंकी।
कमरे की मद्धिम रोशनी में रूपा का उजला बदन, गोरे गोरे मांसल मम्मे खुल कर सामने आ गए।

रूपा ने बड़ी अदा से उन्हें अपने हाथों से पकड़ा और अन्नू को इशारा किया कि आओ और इनका स्वाद लो।
अन्नू ने बहुत प्यार से उसके निप्पल पर जीभ फिराई।

रूपा कसमसा गयी।
उसने अन्नू की टी शर्ट उतार फेंकी।

अन्नू वापिस रूपा के चेहरे को अपने हाथों से प्यार से पकड़ कर होंठ से होंठ भिड़ा गया।
दोनों की जीभ एक दूसरे के मुंह में घुसने को बेताब थीं।
रूपा को इतनी देर में ही यह अहसास हो गया था कि अन्नू आकाश से ज्यादा रोमांटिक और मजबूत है, शरीर से भी लंड से भी।

अन्नू का लंड पूरा तन चुका था और रूपा की शॉर्ट्स के ऊपर रगड़ मार रहा था।
रूपा की चूत तो कब से पानी बहाये जा रही थी।

तब रूपा ने अन्नू को वापिस नीचे धकेला ताकि वो उसके मम्मे अच्छे से चूस सके।
अन्नू अब बारी बारी से दोनों मम्मों पर पिल गया.

वो वहशियों की तरह कभी एक मम्मे को निचोड़ता कभी दूसरे को!

रूपा तो चाह रही थी कि वो एक साथ दोनों को चूसे। रूपा ने अपने हाथों से अपने दोनों कबूतरों को पकड़कर उन्हें आपस में दबाकर मिलाया और अन्नू की ओर कर दिया।
अन्नू ने जितना हो सकता था दोनों को एकसाथ चूसने की कोशिश की।

रूपा बहुत उत्साहित थी अपनी चुदाई में!
अन्नू का पहला सेक्स था। इससे पहले वो एक दो बार मसाज ले चुका है जहां लड़की ने उसके लंड को बाद में अपने हाथ से खाली तो कर दिया था.
पर सेक्स कभी नहीं किया था अन्नू ने!

अब आजकल तो पॉर्न मूवी देख देख कर सब सीख जाते हैं।

रूपा ने अन्नू को बगल में लिटाया और अपने पतली लंबी उँगलियों से उसकी छाती के बालों से खेलने लगी।
उसने अन्नू की निप्पलेस पर जीभ फिराते हुए प्यार से काट भी लिया।

अन्नू ने अपना एक हाथ रूपा की पेंटी में कर दिया तो उसे जन्नत का मजा आ गया।
गुलाबी पानी बहती मखमली चूत की दो फाँकों के बीच उसकी उँगलियाँ मचलने लगीं।

रूपा भी कसमसा गयी।
उसने अन्नू का सिर नीचे धकेला और कहा- मेरी बेबी को प्यार करो।

अन्नू समझ गया कि उसकी भाभी उससे चूत चटवाना चाहती है।
वह उठा, उसने रूपा की पैंटी नीचे सरकानी चाही तो रूपा ने अपनी कमर उचका ली।

एक झटके में ही कायनात का सबसे हसीन नजारा इतने नजदीक से अन्नू के सामने था।
गुलाबी मखमली चूत!
वो देखता रहा तो रूपा ने कसमसा कर कहा- अब चूसो इसे!

अन्नू ने रूपा की टांगें फैला कर अपनी जीभ घुसा दी उसकी चूत में!
रूपा मचली।
उसने अपने हाथों से अपनी चूत को और फैलाया.

अन्नू ने अपनी जीभ पूरी घुसा दी और साथ ही एक उंगली घुसा कर उसका दाना मसलने लगा।
रूपा बिस्तर पर मचलने लगी, उसकी आहें निकाल रही थीं।
आह उहह की आवाजों से कमरा गर्म हो गया।

रूपा अब अन्नू का मोटा और लंबा लंड चखना चाह रही थी।
जल्दी तो थी नहीं!

रूपा ने यह महसूस कर लिया था कि अन्नू बिस्तर में आकाश से बीस ही बैठेगा और उसका लंड तो घोड़े जैसा है.
आज की रात उसकी सेक्स लाइफ की एक नयी कहानी लिखने जा रही थी।

रूपा ने अन्नू को हटाया और नीचे होकर उसका लोअर उतार फेंका।
सामने मोटा लंबा फनफनता लंड बाहर आ गया।

रूपा ने झटके से उसे लपक लिया और आहिस्ता से ऊपर की खाल सरकायी और आहिस्ता आहिस्ता उसके सुपारे को चाटने लगी।
वो कभी कभी नजर उठाकर अन्नू से नजर मिला लेती जो अपनी उँगलियों से उसके बाल सहला रहा था।

रूपा अब लपर लपर चूस रही थी अन्नू का लंड, बिल्कुल विदेशी पॉर्न फिल्मों जैसा!

सही बात यह है कि रूपा की काम पिपासा जो अन्नू के साथ सेक्स करते समय भड़की … वैसी आग तो उसे सुहागरात पर भी नहीं महसूस हुई।
तब आकाश पहला मर्द था जिसके साथ वो हमबिस्तर हुई थी।
उस समय किसी से तुलना नहीं हो सकती थी।
आज अन्नू के साथ हमबिस्तर होने पर उसे जवामर्दी का अलग ही अहसास हो रहा था।

अन्नू का लंड बमुश्किल उसके मुंह में आ रहा था; बार बार हलक पर टक्कर दे रहा था।

रूपा ने चूस चूसकर अन्नू को भी बेहाल कर दिया था और अन्नू अब उसकी चूत में घुसने को बेकरार था।

तो पहली बार अन्नू ने ताकत लगा कर रूपा को हटाया और नीचे लिटा कर उसकी टांगें ऊपर करके चौड़ा दी और अपना लंड उसके चूत के मुंहाने पर रख दिया मानो कह रहा हो कि हो जाओ तैयार हमले के लिए।

रूपा ने बड़े कातर भाव से कहा- अन्नू, प्लीज़ धीरे धीरे घुसाना. तुम्हारा बहुत मोटा है।
कहकर रूपा ने अपनी चूत पर थोड़ा सा थूक भी लगा दिया और अन्नू ने एक धक्के में अपना मूसल घुसा दिया।

रूपा की चीख निकल गयी, बोली- कहा था धीरे से, फट जायेगी मेरी!
अब अन्नू ने सुनना और सोचना बंद कर दिया था।
वो धीरे धीरे घुसाता हुआ अपना पूरा लंड रूपा के अंदर घुसा गया और लगा अंदर बाहर करने!

रूपा तो निहाल हो गयी।
अब वो अन्नू को स्पीड बढ़ाने के लिए उकसाने लगी।

फिर क्या था, अन्नू ने अपने स्पीड बढ़ा दी।
फ़च फ़च फ़च फ़च उह आह मज़ा आ गया और ज़ोर से मेरी जान … यही सब सुनाई दे रहा था।

दोनों हाँफने लग गए थे पर मैदान छोड़ने को कोई तैयार नहीं था।
अन्नू बार बार नीचे होकर रूपा के होंठ चूम लेता।

अब रूपा का मन ऊपर आने को था, उसने अन्नू को हटाना चाहा तो अन्नू हाँफते हुए बोला- अब नहीं, अब मेरा होने वाला है, निकालकर ही हटूँगा।
पोर्न भाभी रूपा भी उसी लय में बह गई।

दोनों तरफ से धकापेल जारी थी।
अन्नू ऊपर से धक्के लगा रहा था तो रूपा नीचे से उचक उचक कर लंड को और गहराइयों तक ले जा रही थी।

तभी एक झटके में अन्नू ने रूपा की चूत में सारा माल छोड़ दिया।
एक सफ़ेद लावा बह निकला रूपा की चूत से!

दोनों वहीं निढाल होकर पड़ गए।

पाँच मिनट ऐसे ही पड़े रहने के बाद रूपा उठी औए वाशरूम चली गयी।
पीछे पीछे अन्नू भी आ गया।

दोनों एक दूसरे को देखते रहे फिर गले लग गए।

रूपा बोली- अफसोस मत करना। हमने जो कुछ किया अपनी मर्जी से किया और करके अच्छा लगा।

अन्नू ने उसे होंठ पर किस किया और दोनों शावर के नीचे खड़े हो गए।
नहाकर अन्नू अपने रूम में चला गया।

अगले दिन सुबह उसके होंठों पर किस करके रूपा ने उसे उठाया।
अन्नू ने आँखें खोली तो देखा कि रूपा बिल्कुल बिना कपड़ों के खड़ी है।
उसने रूपा को बेड पर खींच लिया।

रूपा ने सबसे पहले अन्नू के शॉर्ट्स उतारे और उसका मूसल लेकर चाटने लगी।

अन्नू बोला- रात को मन नहीं भरा क्या?
रूपा बोली- अब तो ये हर रोज़ चाहिए।

तभी रूपा ने अन्नू को अपने मम्मे दिखाये जिन पर कई जगह अन्नू ने काट खाया था।
अन्नू ने रूपा को सॉरी बोला तो रूपा हंस दी।

रूपा ने अपने हाथ से अन्नू का लंड अपनी चूत में कर लिया और लगी उछलने!
नीचे से अन्नू भी धक्के दे रहा था।
पर अन्नू का लंड रात भर आराम कर नयी ताकत पा चुका था।

अन्नू ने रूपा को ऊपर से उतारा और नीचे खड़ा कर बेड पर झुकाकर घोड़ी बनाया और पीछे से घुस गया उसकी चूत में!
अपने हाथों में अन्नू ने अपनी भाभी के मम्मे दबोच लिए पर उन पर पड़े दाँत के निशान ध्यान कर कस कर दबाया नहीं.

रूपा ने मुंह पीछे घुमाकर उसे बार बार होंठों पर किस किया।
अब रूपा और कुछ थ्रिल चाहती थी सेक्स में!

उसने अन्नू को कुर्सी पर बैठाया और उसकी ओर मुंह करके ऊपर बैठ कर अपने हाथों से उसका लंड अपनी चूत में कर लिया और अपने होंठ उसके होंठों से भिड़ा दिये।

रूपा के जवान जिस्म में गज़ब की फुर्ती और दिल में चुदास भरी थी।
ताबड़तोड़ चुदाई के बाद अन्नू ने अपना लंड उसके मम्मों पर खाली कर दिया।

रूपा ने उसका लंड अपने मुंह में ले लिया और चूम चाटकर साफ कर दिया।
अन्नू को किसी हिन्दुस्तानी लड़की से ये उम्मीद नहीं थी।

ऐसा उसने पॉर्न फिल्मों में तो खूब देखा था।
वहीं रखे टॉवल से दोनों ने एक दूसरे को साफ किया।

रूपा नंगे ही किचन में चली गयी कॉफी लेने!

कॉफी पीते समय रूपा ने अन्नू को बताया कि उसके पापा आज सुबह ही विदेश से लौटे हैं और दो-तीन दिन के लिए चाहते हैं कि रूपा उनके पास आ जाए।
अन्नू बोला- ठीक है, चली जाओ, मैं छोड़ आता हूँ।
रूपा बोली- तुम भी चलो।
पर अन्नू बोला- मैं कुछ काम भी निबटा लूँगा इस बीच!

रूपा तीन दिन अपने पिता के घर रही।
इस बीच आकाश का केवल एक बार ही फोन आया वो भी बहुत अच्छे ढंग से उसने बात नहीं की।

रूपा के बार बार पूछने पर उसने उखड़ते हुए रूपा से कहा कि उसे अहमदाबाद में अपनी जॉब जॉइन कर लेनी चाइए, उसे यूरोप आने में पता नहीं कितना वक्त निकल जाये।
यह सुन कर रूपा को बड़ा अजीब सा लगा।
उसने अपनी सास से भी बात की तो वो भी बहुत दुखी सी लगीं, उन्होने भी ठीक से ज्यादा बात नहीं की।

दोपहर को अन्नू आने वाला था, उसे लेने।

अन्नू के साथ रूपा वापिस तो आ गयी पर उसका मन किसी आशंका से घबरा रहा था, अन्नू भी चुप चुप था।

घर आकर उसने देखा की घर भी गंदा सा पड़ा है और अन्नू के बेड साइड में व्हिस्की की बोतल रखी थी, मतलब अन्नू ने शराब पी है।

रूपा ने पूछा- क्या आज मेड नहीं आई?
तो अन्नू बोला- आई होगी, मैं देर तक सोता रहा तो वापिस चली गयी होगी।

रूपा ने पहले तो घर ठीक किया, फिर अन्नू से बोली- क्या बात है, मुझे सच सच बताओ?
अन्नू बहुत गुस्से में था। उसने एक पेग बना लिया और जैसे ही पीने को हुआ तो रूपा ने छीन लिया और बोली- अन्नू हम दोन साथ साथ पिएंगे, पर मुझे बात बताओ। मैं कमजोर नहीं हूँ, हर झटका झेल सकती हूँ।

अन्नू बिना रुके बोला- उस बास्टर्ड आकाश ने वहाँ एक रखैल रखी हुई है और अब वो उसी के साथ रहना चाहता है।
रूपा अन्नू के गले लग के रो पड़ी।

अन्नू काफी देर उसे ढांढस बंधाता रहा, फिर आखिर में बोला- मैं तुम्हें रोता नहीं देख सकता, मैं तुम्हें अपनाने को तैयार हूँ।
रूपा ने सिर उठाकर उसकी ओर देखा और रोते हुए पूछा- आकाश ने ऐसा क्यों किया? उसे क्या हक था मेरी ज़िंदगी से खेलने का?

अब अन्नू ने उसे कहा- जो हो गया वो हो गया, क्या मैं तुम्हें पसंद नहीं? मेरी एक एमएनसी में कल ही जॉब लगी है। दो महीने बाद जॉइनिंग है। बहुत खुश रखूँगा तुम्हें!

रूपा ने उसे भींच लिया। दोनों ऐसे चिपट गए मानो कब के बिछड़े हों।

अन्नू ने अपने होंठ रूपा के थरथराते होंठों से लगा दिये।
उसने रूपा से कहा- चलो नहा लो, मंदिर चलते हैं। आज हमारे जीवन की नई शुरुआत है। आज से तुम मेरी सब कुछ … और हाँ आज हम सुहागरात मनाएंगे नए दूल्हा-दुल्हन की तरह और फिर कल की फ्लाइट से गोवा चलेंगे अपने हनीमून पर!

तो दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी यह पोर्न भाभी चुदाई कहानी?
जिसके जो नसीब में होता है उसे वही मिलता है.
अपनी राय दीजिएगा मेरी मेल आईडी पर!
[email protected]

Leave a Comment